श्री महावीर स्वामी जी

जैन धर्म के चौबीसवें तीर्थंकर भगवान श्री महावीर स्वामी का जन्म कुंडलपुर वैशाली के इक्ष्वाकुवंश में चैत्र शुक्ल त्रयोदशी को उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र में हुआ था। इनके माता का नाम माता त्रिशला देवी था और पिता का नाम राजा सिद्धार्थ था।

बचपन में इनका नाम वर्धमान था लेकिन बाल्यकाल से ही वह साहसी, तेजस्वी, ज्ञान पिपासु और अत्यंत बलशाली होने के कारण वे महावीर कहलाए। भगवान महावीर ने अपने इन्द्रियों को जीत लिया जिस कारण इन्हें जीतेंद्र भी कहा जाता है। इनके शरीर का वर्ण सुवर्ण था और इनका चिन्ह सिंह था। इनके यक्ष का नाम ब्रह्मशांति और यक्षिणी का नाम सिद्धायिका देवी था। जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार भगवान महावीर के गणधरों की कुल संख्या 11 थी, जिनमें गौतम स्वामी इनके प्रथम गणधर थे। भगवान महावीर ने मार्गशीर्ष दशमी को कुंडलपुर में दीक्षा की प्राप्ति की और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 दिन बाद खीर से इन्होनें प्रथम पारणा किया था। दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 12 वर्ष 6।5 महीने तक कठोर तप करने के बाद वैशाख शुक्ला दशमी को ऋजुबालुका नदी के किनारे साल वृक्ष के नीचे भगवान महावीर को कैवल्यज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
भगवान महावीर अहिंसा और अपरिग्रह के साक्षात् मूर्ति थे। वे सभी के साथ सामान भाव रखते थे और किसी को कोई भी दुःख देना नहीं चाहते थे। अपनी श्रद्धा से जैन धर्म को पुनः प्रतिष्ठापित करने के बाद कार्तिक अमावस्या दीपावली के दिन पावापुरी में भगवान महावीर ने निर्वाण को प्राप्त किया था।

Heaven Pranatadevaloka
Birthplace Kundulpur
Diksha Place Rijupaluka
Father’s Name Siddhartharaja
Mother’s Name Trisala
Complexion yellow
Symbol lion
Height 7 hands or cubits
Age 72 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh teak
Attendant spirits/ Yaksha Matamga
Yakshini Siddhayika
First Arya Indrabhuti
First Aryika Chandrabala

श्री पार्श्वनाथ जी

तेइसवें तीर्थंकर भगवान श्री पार्श्वनाथ जी का जन्म बनारस के इक्ष्वाकुवंश में पौष माह के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि को विशाखा नक्षत्र में हुआ था। इनके माता का नाम माता वामा देवी था और पिता का नाम राजा अश्वसेन था। इनके शरीर का वर्ण नीला था जबकि इनका चिह्न सर्प है। इनके यक्ष का नाम पार्श्व था और इनके यक्षिणी का नाम पद्मावती देवी था। जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार भगवान श्री पार्श्वनाथ जी के गणधरों की कुल संख्या 10 थी, जिनमें आर्यदत्त स्वामी इनके प्रथम गणधर थे। इनके प्रथम आर्य का नाम पुष्पचुड़ा था।


भगवान पार्श्वनाथ जी ने पौष कृष्ण पक्ष एकादशी को बनारस में दीक्षा की प्राप्ति की थी और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 दिन बाद खीर से इन्होनें प्रथम पारणा किया था। भगवान श्री पार्श्वनाथ जी 30 साल की अवस्था में सांसारिक मोहमाया और गृह का त्याग कर संन्यासी हो गए थे और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 84 दिन तक कठोर तप करने के बाद चैत्र कृष्ण पक्ष चतुर्थी को बनारस में ही घातकी वृक्ष के नीचे इन्होंने कैवल्यज्ञान को प्राप्त किया था।
भगवान श्री पार्श्वनाथ जी ने ज्ञान प्राप्ति के पश्चात् 70 वर्षों तक धर्म का प्रचार-प्रसार किया और लोगों को सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलने का सन्देश दिया और फिर 33 साधुओं के साथ श्रावण शुक्ल पक्ष की अष्टमी को सम्मेद शिखर पर इन्होंने निर्वाण को प्राप्त किया।

Heaven Pranatadevaloka
Birthplace Varanasi
Diksha Place Samed Shikharji
Father’s Name Asvasenaraja
Mother’s Name Vamadevi
Complexion black
Symbol serpent or snake
Height 9 hands or cubits
Age 100 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Dhataki
Attendant spirits/ Yaksha Dharanendra
Yakshini Padmawati Mata
First Arya Aryadinna
First Aryika Pushpachu[d.]a

श्री नेमिनाथ जी

बाइसवें तीर्थंकर भगवान श्री नेमिनाथ जी का जन्म सौरीपुर द्वारका के हरिवंश कुल में श्रावण माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को चित्रा नक्षत्र में हुआ था. इनके माता का नाम माता शिवा देवी था और पिता का नाम राजा समुद्रविजय था. इनके शरीर का रंग श्याम वर्ण था जबकि चिन्ह शंख था. इनके यक्ष का नाम गोमेध और यक्षिणी का नाम अम्बिका देवी था. जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार भगवान श्री नेमिनाथ जी के गणधरों की कुल संख्या 11 थी, जिनमें वरदत्त स्वामी इनके प्रथम गणधर थे. इनके प्रथम आर्य का नाम यक्षदिन्ना था. भगवान श्री नेमिनाथ ने सौरीपुर में श्रावण शुक्ला पक्ष षष्ठी को दीक्षा की प्राप्ति की थी और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 दिन बाद खीर से इन्होनें प्रथम पारणा किया था. भगवान श्री नेमिनाथ जी ने दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 54 दिनों तक कठोर तप करने के बाद गिरनार पर्वत पर मेषश्रृंग वृक्ष के नीचे आसोज अमावस्या को कैवल्यज्ञान को प्राप्त किया था. कथानुसार भगवान नेमिनाथ जब राजा उग्रसेन की पुत्री राजुलमती से विवाह करने पहुंचे तो वहां उन्होंने उन पशुओं को देखा जो कि बारातियों के भोजन हेतु मारे जाने वाले थे. यह देखकर उनका हृदय करूणा से व्याकुल हो उठा और उनके मन में वैराग्य उत्पन्न हो गया. तभी वे विवाह का विचार छोड़कर तपस्या को चले गए थे.

700 साल तक साधक जीवन जीने के बाद आषाढ़ शुक्ल अष्टमी को भगवान श्री नेमिनाथ जी ने एक हज़ार साधुओं के साथ गिरनार पर्वत पर निर्वाण को प्राप्त किया था.

Heaven Aparajita
Birthplace Ujjain
Diksha Place Girnarji
Father’s Name Samudra vijaya
Mother’s Name Shiva devi
Complexion black
Symbol conch
Height 10 dhanusha
Age 1000 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Vetasa
Attendant spirits/ Yaksha Gomedha or Sarvahna
Yakshini Ambika or Kushmandini
First Arya Varadatta
First Aryika Yakshadinna

श्री नमिनाथ जी

इक्कीसवें तीर्थंकर भगवान श्री नमिनाथ जी का जन्म मिथिला के इक्ष्वाकुवंश में श्रावण कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि को अश्विनी नक्षत्र में हुआ था। इनके माता का नाम माता विप्रा रानी देवी और पिता का नाम राजा विजय था। इनके शरीर का वर्ण सुवर्ण था जबकि इनका चिह्न नीलकमल था। इनके यक्ष का नाम भृकुटी और यक्षिणी का नाम गांधारी देवी था। जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार भगवान श्री नमिनाथ जी के गणधरों की कुल संख्या 17 थी, जिनमें शुभ स्वामी इनके प्रथम गणधर थे। इनके प्रथम आर्य का नाम अनिला था।

अषाढ़ माह के कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि को भगवान श्री नमिनाथ जी ने मिथिला में दीक्षा की प्राप्ति की थी और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 दिन बाद खीर से इन्होंने प्रथम पारणा किया था। दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 9 महीने तक कठोर तप करने के बाद भगवान श्री नमिनाथ को मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मिथिला में ही बकुल वृक्ष के नीचे कैवल्यज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
भगवान श्री नमिनाथ वैशाख माह के कृष्ण पक्ष की दशमी तिथि को सम्मेद शिखर पर 536 साधुओं के साथ निर्वाण को प्राप्त किए थे।

Heaven Pranatadevaloka
Birthplace Mathura
Diksha Place Samed Shikharji
Father’s Name Vijayaraja
Mother’s Name Viprarani
Complexion yellow or emerald
Symbol blue water-lily; or Asoka tree
Height 15 dhanusha
Age 10,000 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Bakula
Attendant spirits/ Yaksha Bhrikuti
Yakshini Gandhari
First Arya Subha
First Aryika Anila

 

श्री मुनिसुव्रतनाथ जी

बीसवें तीर्थंकर भगवान श्री मुनिसुव्रतनाथ जी स्वामी का जन्म राजगृह के हरिवंश कुल में ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि को श्रवण नक्षत्र में हुआ था. इनके माता का नाम माता पद्मावती देवी और पिता का नाम राजा सुमित्रा था. इनके शरीर का वर्ण श्याम वर्ण था जबकि इनका चिन्ह कछुआ था. इनके यक्ष का नाम वरुण था और यक्षिणी का नाम नरदत्ता देवी था. जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार इनके गणधरों की कुल संख्या 18 थी, जिनमें मल्लि स्वामी इनके प्रथम गणधर थे. भगवान श्री मुनिसुव्रतनाथ जी स्वामी ने राजगृह में फाल्गुन शुक्ल पक्ष द्वादशी को दीक्षा की प्राप्ति की थी और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात 2 दिन बाद खीर से इन्होनें प्रथम पारणा किया था. दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 11 महीने तक कठोर तप करने के बाद फाल्गुन कृष्ण पक्ष की द्वादशी तिथि को भगवान श्री मुनिसुव्रतनाथ जी स्वामी ने राजगृह में ही चम्पक वृक्ष के नीचे कैवल्यज्ञान की प्राप्ति की थी.

कई वर्षों तक सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलने के बाद भगवान श्री मुनिसुव्रतनाथ जी स्वामी ने एक हज़ार साधुओं के साथ सम्मेद शिखर पर ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि को निर्वाण को प्राप्त किया था.

Heaven Aparajita-devaloka
Birthplace Rajgir
Diksha Place Samed Shikharji
Father’s Name Sumitraraja
Mother’s Name Padmawati
Complexion black
Symbol tortoise
Height 20 dhanusha
Age 30,000 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Champaka
Attendant spirits/ Yaksha Varuna
Yakshini Bahurupini
First Arya Malli
First Aryika Pushpavati

श्री मल्लिनाथ जी

उन्नीसवें तीर्थंकर भगवान श्री मल्लिनाथ जी का जन्म मिथिला के इक्ष्वाकुवंश में मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष एकादशी को अश्विन नक्षत्र में हुआ था। इनके माता का नाम माता रक्षिता देवी और पिता का नाम राजा कुम्भराज था। इनके शरीर का वर्ण नीला था जबकि इनका चिन्ह कलश था। इनके यक्ष का नाम कुबेर और यक्षिणी का नाम धरणप्रिया देवी था। जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार भगवान श्री मल्लिनाथ जी स्वामी के गणधरों की कुल संख्या 28 थी, जिनमें अभीक्षक स्वामी इनके प्रथम गणधर थे।

भगवान श्री मल्लिनाथ जी ने मिथिला में मार्गशीर्ष माह शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को दीक्षा की प्राप्ति की थी और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 दिन बाद खीर से इन्होनें प्रथम पारणा किया था। दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 1 दिन-रात तक कठोर तप करने के बाद भगवान श्री मल्लिनाथ जी को मिथिला में ही अशोक वृक्ष के नीचे कैवल्यज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
भगवान श्री मल्लिनाथ जी ने हमेशा सत्य और अहिंसा का अनुसरण किया और अनुयायियों को भी इसी राह पर चलने का सन्देश दिया। फाल्गुन माह शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को 500 साधुओं के संग इन्होनें सम्मेद शिखर पर निर्वाण को प्राप्त किया था।

Heaven Jayantadevaloka
Birthplace Mathura
Diksha Place Samed Shikharji
Father’s Name Kumbharaja
Mother’s Name Prabhavati
Complexion golden
Symbol jar
Height 25 dhanusha
Age 55,000 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Ashoka
Attendant spirits/ Yaksha Kubera
Yakshini Aparajita
First Arya Abhikshaka
First Aryika Bandhumati

श्री अरनाथ जी

अठारहवें तीर्थंकर भगवान श्री अरनाथ जी हैं। जिनका जन्म हस्तिनापुर के इक्ष्वाकुवंश में मार्गशीर्ष कृष्ण पक्ष दशमी को रेवती नक्षत्र में हुआ था. इनके माता का नाम माता मित्रा देवी रानी और पिता का नाम राजा सुदर्शन था. बचपन में इनका नाम अर कुमार था. इनके शरीर का वर्ण सुवर्ण था जबकि इनका चिन्ह मछली था. इनके यक्ष का नाम यक्षेन्द्र और यक्षिणी का नाम धारिणी देवी था. जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार इनके गणधरों की कुल संख्या 33 थी, जिनमें कुम्भ स्वामी इनके प्रथम गणधर थे. भगवान श्री अरनाथ जी ने मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को दीक्षा की प्राप्ति की थी और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 दिन बाद खीर से इन्होनें प्रथम पारणा किया था. दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 3 वर्ष तक कठोर तप करने के बाद कार्तिक शुक्ल पक्ष द्वादशी को हस्तिनापुर में ही आम के वृक्ष के नीचे भगवान श्री अरनाथ जी को कैवल्यज्ञान की प्राप्ति हुई थी.

मार्गशीर्ष मास के दशमी तिथि को भगवान श्री अरनाथ जी ने सम्मेद शिखर पर एक हज़ार साधुओं के साथ निर्वाण को प्राप्त किया था.

Heaven Sarvarthasiddha
Birthplace Gajapura
Diksha Place Samed Shikharji
Father’s Name Sudarsana
Mother’s Name Devirani
Complexion golden
Symbol Nandyavarta
Height 30 dhanusha
Age 84,000 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Amba
Attendant spirits/ Yaksha Yaksheta
Yakshini Dhana
First Arya Kumbha
First Aryika Rakshita

श्री कुंथुनाथ जी

सत्रहवें तीर्थंकर भगवान श्री कुंथुनाथ का जन्म हस्तिनापुर के इक्ष्वाकुवंश के राजा सूर्य की धर्मपत्नी माता श्रीदेवी के गर्भ से वैशाख माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को कृत्तिका नक्षत्र में हुआ था। इनके शरीर का वर्ण सुवर्ण था और इनका चिन्ह बकरा था। इनके यक्ष का नाम गन्धर्व था और यक्षिणी का नाम बला देवी था। जैन धर्मावलम्बियों के अनुसार भगवान श्री कुंथुनाथ जी के गणधरों की कुल संख्या 35 थी, जिनमें सांब स्वामी इनके प्रथम गणधर थे।

वैशाख कृष्णपक्ष पंचमी को भगवान श्री कंठुनाथ जी ने हस्तिनापुर में दीक्षा ग्रहण की थी और दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 2 दिन बाद इन्होंने खीर से प्रथम पारणा किया था। दीक्षा प्राप्ति के पश्चात् 16 वर्ष तक कठोर तप करने के बाद भगवान श्री कंठुनाथ जी को चैत्र शुक्ल पक्ष के तृतीया को हस्तिनापुर में ही तिलक वृक्ष के नीचे कैवल्यज्ञान की प्राप्ति हुई थी।
सत्य और अहिंसा के साथ कई वर्षों तक साधक जीवन बिताने के बाद वैशाख कृष्ण पक्ष एकादशी को सम्मेद शिखर पर भगवान श्री कंठुनाथ जी ने निर्वाण को प्राप्त किया।

Heaven Sarvarthasiddha
Birthplace Gajapura
Diksha Place Samed Shikharji
Father’s Name Suraraja
Mother’s Name Srirani
Complexion golden
Symbol goat
Height 35 dhanusha
Age 95,000 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Bhilaka
Attendant spirits/ Yaksha Gandharva
Yakshini Bala; or Vijaya
First Arya Samba
First Aryika Damini

श्री शांतिनाथ जी

श्री शान्तिनाथ प्रभु जैन धर्म के 16वें तीर्थंकर हैं जिनका जन्म ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को भरणी नक्षत्र में हस्तिनापुर के इक्ष्वाकु वंश में हुआ। इनके माता पिता बनने का सौभाग्य राजा विश्वसेन व उनकी धर्मपत्नी अचीरा को प्राप्त हुआ। जैन धर्मावलंबियों के अनुसार शान्तिनाथ, भगवान के अवतार थे, जिन्होंने अपने शासनकाल में शान्ति व अहिंसा से प्रजा की सेवा की। प्रभु के शरीर का वर्ण सुवर्ण (सुनहरा) और चिह्न मृग (हिरन) था।

पिता की आज्ञानुसार भगवान शान्तिनाथ ने राज्य संभाला। पिता के पश्चात भगवान शान्तिनाथ ने राजपद संभालते हुए विश्व को एक सूत्र में पिरोया। पुत्र नारायण को राजपाट सौंपकर भगवान शान्तिनाथ ने प्रवज्या अंगीकार की। प्रभु शान्तिनाथ ने ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्दशी को दीक्षा प्राप्त की। बारह माह की छ्दमस्थ अवस्था की साधना से प्रभु ने पौष शुक्ल नवमी को ‘कैवल्य’ प्राप्त किया साथ ही धर्मतीर्थ की रचना कर तीर्थंकर पद पर विराजमान हुए। ज्येष्ठ कृष्ण त्रयोदशी के दिन सम्मेद शिखर पर भगवान शान्तिनाथ ने मोक्ष प्राप्त किया।

Heaven Sarvarthasiddha
Birthplace Hastinapuri
Diksha Place Samed Shikharji
Father’s Name Visvasena
Mother’s Name Achira
Complexion golden
Symbol antelope
Height 40 dhanusha
Age 100,000 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Nandi
Attendant spirits/ Yaksha Garuda
Yakshini Nirvani
First Arya Chakrayuddha
First Aryika Suchi

श्री धर्मनाथ जी

धर्मनाथ जी पन्द्रहवें तीर्थंकर हैं। समस्त कर्मों का निर्वाह कर उन्होंने कैवल्य ज्ञान की प्राप्ति की और वर्षों तक जनता में अहिंसा और सत्य का संदेश दिया।

धर्मनाथ जी का जन्म रत्नपुरी के इक्ष्वाकु वंश के राजा भानु की पत्नी माता सुव्रतादेवी के गर्भ से माघ के शुक्ल पक्ष की तृतीया को पुष्य नक्षत्र में हुआ था। धर्मनाथ के यक्ष, यक्षिणी किन्नर और कंदर्पा देवी थे। इनके शरीर का वर्ण सुवर्ण (सुनहरा) और चिह्न वज्र था।
राजा भानु ने धर्मनाथ जी को राजगद्दी का कार्य भार सौंपा था। धर्मनाथ जी के शासन में अधर्म का नाश हुआ। उन्हें एक प्रिय शासक के रूप में भी याद किया जाता है।
कालान्तर में राजपद का त्याग कर उत्तराधिकारी को सौंपा। माघ शुक्ल त्रयोदशी के दिन श्री धर्मनाथ जी ने प्रवज्या व आत्मसाधना में प्रवेश किया। देव निर्मित नागदत्ता पालकी में बैठकर शालवन के उद्यान में पहुँचे, जहां माघ शुक्ल त्रयोदशी के दिन एक हजार राजाओं के साथ स्वयं दीक्षित हो गये। दो वर्ष की छदमस्थ साधना कर पौष शुक्ल पूर्णिमा के दिन प्रभु केवली बने साथ ही धर्मतीर्थ की स्थापना कर तीर्थंकर कहलाए। ज्येष्ठ शुक्ल पंचमी के दिन सम्मेद शिखर पर्वत पर प्रभु ने निर्वाण किया।

Heaven Vijayavimana
Birthplace Ratnapuri
Diksha Place Samed Shikharji
Father’s Name Bhanuraja
Mother’s Name Suvrita
Complexion golden
Symbol thunderbolt
Height 45 dhanusha
Age 1,000,000 common years
Tree Diksha or Vat Vriksh Dadhiparna
Attendant spirits/ Yaksha Kinnara
Yakshini Manasi
First Arya Arishta
First Aryika Arthasiva